Friday, December 7, 2012

त्रिवेणी




सुनकर चौंक से गये हैं कान 
रस हवाओ में घोल रहा है.. 

जाने किस दर्द में परिंदा बोल रहा है !

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (09-12-2012) के चर्चा मंच-१०८८ (आइए कुछ बातें करें!) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  2. भावो को संजोये रचना......

    ReplyDelete
  3. वाह||
    बहुत-बहुत सुन्दर...
    :-)

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया.....
    अनु

    ReplyDelete
  5. सुंदर भावपूर्ण चित्रमयी प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  6. बेबस मन का सटीक चित्रण ..
    बहुत खूब!

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...