Friday, November 30, 2012

त्रिवेणी

  



कुछ सुलझाने में उलझ गया ,कुछ उलझ उलझ कर सुलझ गया 
 
मुट्ठी की रेत फिसल गयी ...आँखों का दरिया उतर गया 


जिंदगी  थी जो ठहरी रही ......वक्त था सो  गुजर गया  !!



वंदना  










7 comments:

  1. आहा वाह बहुत खूब उम्दा रचना

    अरुन शर्मा
    www.arunsblog.in

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    दो दिनों से नेट नहीं चल रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। आज नेट की स्पीड ठीक आ गई और रविवार के लिए चर्चा भी शैड्यूल हो गई।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (2-12-2012) के चर्चा मंच-1060 (प्रथा की व्यथा) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  3. वक़्त कब ठहरा है किसी के लिये...
    ज़िंदगी फिसलती ही जाती है हाथों से...
    रेत की मानिंद...
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी कविता |वंदना जी बधाई |

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया.....

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...