Tuesday, November 30, 2010

मुझे जगाने क्यूं कोई सबा नही आती !!





बंद दरिचो से गुजरकर वो हवा नहीं आती 
उन गलियों से अब कोई सदा नहीं आती ..

बादलो से अपनी बहुत बनती है,  शायद  
इसी जलन में धूप कि शुआ* नहीं आती ..

अच्छे लगते है मुझे ये खामोश से जख्म  
कर सकें कुछ बयां इन्हे वो जुबाँ नही आती 

जिंदगी ने भी क्या खूब सबक सिखा दिए 
दिल में अब फिजूल कोई इल्तजा नहीं आती ..

शोक ए दीद* से उसकी   हारे हुए हैं बेशक, 
लब पे कभी कोई खुदगर्ज दुआ नहीं आती ..

एक ख़्वाब  के मानिंद जाने कब से सोया  हूँ 
मुझे जगाने क्यूं  कोई  सबा* नही आती   !! 



शुआ= किरण 
शोक ए दीद = दर्शन कि अभिलाषा
इब्तिदा = परिचय  
सबा = सुबह कि हवा 

- वन्दना 


26 comments:

  1. अस्तित्त्व प्रतिष्ठा की उत्कृष्ट रचना ।

    ReplyDelete
  2. behad khoobsurat ghazal likhi hai aapne.....its beautiful, saare khayaal khoobsurat hain...doosra sher aur aakhiri sher to bas kamaal hain...:)

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छे, चौथा सबसे उम्दा लगा, बाकी भी खासे अच्छे है....लिखते रहिये ....

    ReplyDelete
  4. दिल में अब फ़िज़ूल की इल्तजा नहीं आती..
    क्या बात है..हर शेर ख़ूबसूरत...सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर और सशक्त अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. Vandana, Aisa lag raha hai kisi maje hue shayar ka kalaam hai...kisi ek sher ki tareef karoon to doosre ke saath beimaani hogi .....beautiful :-)

    ReplyDelete
  8. @ ALL....sabhi ka bahut bahut shukriyaa yahan tak aane or sarahne k liye :)

    ReplyDelete
  9. वन्दना जी,

    आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ.....आपका ब्लॉग पसंद आया.....बहुत खुबसूरत ग़ज़ल कही है आपने....आपके तस्वीर के चयन के लिए मैं आपकी दाद देता हूँ ......जो पोस्ट में चार चाँद लगा रही है.....देर से आने की माफ़ी के साथ आज ही आपको फौलो कर रहा हूँ......ताकि आगे भी साथ बना रहे....

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को को भी)

    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    ReplyDelete
  10. वंदना जी,

    जज़्बात पर आपकी टिप्पणी का तहेदिल से शुक्रिया......आपने शयद मेरे ब्लॉग पर को ध्यान से नहीं देखा यहाँ अपना, पराया कुछ भी नहीं और अगर रचना में कहीं शायर का नाम है तो वो ज़रूर आएगा....मेरे ब्लॉग पर काफी रचनाएँ मेरी अपनी लिखी हैं पर मैंने उनमे अपना नाम भी नहीं दिया.......इस दहलीज़ पर सिर्फ जज्बातों की अहमियत है......नामों में क्या रखा है.....उम्मीद है आप आगे भी यहाँ आती रहेंगी......

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी गजल लिखि है आप ने
    बहुत - बहुत शुभ कामना --

    ReplyDelete
  12. सुन्दर भावाभिव्यक्ति
    अच्छे लिखने वालों कि ग़ज़लें पढ़ें भी

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  14. बहुत खुबसूरत गजल , इसकी सारी अदाएं भी ...यहाँ आना बहुत अच्छा लगा . बधाई

    ReplyDelete
  15. Aapke manobhav ka durpan hai aapka post.Man mein uthte hue bhav kabhi-kabhi man ke kisi kone mein sthayi rup se bas jate hain.Ek sukhad ehsas ki anubhuti se man ka har kona praffulit ho gaya.Mere blog rupi dar par aapka besabri se injaar rahega.Dhanyavad.

    ReplyDelete
  16. bauhat vadiya....tussi bauhat accha likhte ho :)...keep going!!!!

    ReplyDelete
  17. sry for cuming so late...exams chal rahe the :(

    ReplyDelete
  18. मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    ReplyDelete
  19. क्या बेहतरीन लिखा है आपने वंदना जी...बहुत बहुत सुन्दर :)

    ReplyDelete
  20. अच्छी रचना लफ्जो का सुंदर उपयोग !
    मेरे ब्लॉग में SMS की दुनिया .........

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...