Saturday, January 29, 2011

खुदा कि रजायें ..तय होती हैं



वफायें  ..जफ़ाएं   तय होती है 
इश्क में सजाएं  तय होती हैं 

पाना खोना हैं जीवन के पहलू 
खुदा की  रजाएं.. तय होती हैं 

ये माना... के गुनहगार हूँ मैं 
मगर कुछ खताएं तय होती हैं 

कोई मौसम सदा नहीं रहता 
जिन्दगी में हवाएं तय होती हैं 

होनी को चाहिए ...बहाना कोई 
अनहोनी कि वजहायें तय होती हैं 

वन्दना 


24 comments:

  1. बहुत ही लाजवाब ग़ज़ल.हर शेर बेहतरीन
    हर शेर अलग ही ग़ज़ल कहता है.सलाम

    ReplyDelete
  2. पाना खोना हैं जीवन के पहलू----- वाह लाजवाब।सुन्दर गज़ल के लिये बधाऊ।

    ReplyDelete
  3. vandu..khayaal bahut acchi hain... 'vajhaayen' koi shabd nahi hota... 'vajhaat' hota hai ....tumne radeef bahut accha liya... kabhi main bhi likhunga is par...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब |

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (31/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  6. वंदना जी,

    बहुत खुबसूरत ग़ज़ल.......वाह....
    पोस्ट अगर अच्छी हो तो टिप्पणीयाँ तय होती हैं :-)

    ReplyDelete
  7. anhoni ki wajaheyin tay hain......kya baat hai yaara...too good :)

    ReplyDelete
  8. एक से बढकर एक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. लाजवाब रचना...बधाई स्वीकारें
    नीरज

    ReplyDelete
  10. बढ़िया,बढ़िया,बढ़िया,.

    ReplyDelete
  11. bahut hi pyari kavita hai.. itni achi lagi mujhe ki taarif ke liye lafz hi nhi mil rahe.. love this..
    Pls Visit My Blog..

    Lyrics Mantra
    Download Free Latest Bollywood Music
    Real Ghost and Paranormal

    ReplyDelete
  12. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 01- 02- 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  13. कोई मौसम तय नहीं रहता
    जिंदगी में हवाएं तय होती हैं
    खूबसूरत शेर.....उम्दा ग़ज़ल

    ReplyDelete
  14. उसकी रज़ा के बिन बोल नहीं फूटते....ये सारा इल्म उसकी रज़ा, तोहफा और नवाजिश ही तो है. May god bless you

    ReplyDelete
  15. भावपक्छ से मजबूत अभिव्यक्ति के लिये मुबारकबाद,पर जाने क्यूं मैं ये इसके बहर( छद) को समझ नहीं पा रहा हूं।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर गजल लिखी है आपने!

    ReplyDelete
  17. सब कुछ तय होता है फिर भी व्यक्ति असुरक्षा के दौर से गुज़रते रहता है। इश्किया अहसासों में डूबी एक शबनमी गज़ल के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब...लाज़वाब गज़ल..

    ReplyDelete
  19. यही जीवन का खेल है..... बेहतरीन ग़ज़ल.....

    ReplyDelete
  20. itna saara wisdom kahan se laati ho ??/?/

    ReplyDelete
  21. वंदना जी आपकी इस रचना को चर्चा मंच पर साँझा किया गया है

    http://kavita-manch.blogspot.in

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...