Wednesday, January 26, 2011

फिजूल बातें



बहुत  बोलती  हैं  ये  नज्मे  ..
ये ग़ज़ल  ये  तहरीरे  ...
मुझसे  भी  कहीं  ज्यादा  
.. 
जिस  तरह तुम्हारी
एक  छोटी   सी  हम्म  पर
 आकर खत्म हो जाती थी 
मेरी लम्बी लम्बी वो फिजूल बाते 


बस उसी तरह  
खामोश  करना  चाहती  हूँ  इन्हें मैं 
मगर नहीं लेती चुप होने का नाम !

तो न  चाहते हुए भी 
 समेटती हूँ अंतर्मन के शोर को 

बिना रुके  word pad  पर 
आखिरकार जब वो शांत हो जाती है 

तो झट से Ctrl and dlt 
सब खत्म ..

ना बोझ दिल पर 
न दिमाग पर .
..
ठीक तुम्हारी ही तरह !!





9 comments:

  1. :-) Badle badle se mere sarkaar nazar aate hain...Ye computer mara life mein set ho gaya hai... ab to kavitaon mein bhi baaten karne laga hai :-)

    ReplyDelete
  2. मन के एहसासों को खूबसूरती से लिखा है ..पर डिलीट कहाँ किया ?

    ReplyDelete
  3. @ sangeeta aunty .....vo fijool ki baat dlt karti hoon ..ab saari hi dlt karti rhoongi to najme bagavat kar daalengi :):)

    ReplyDelete
  4. वंदना जी,

    शुरुआत बहुत अच्छी थी.....एक बेहतरीन नज़्म बन सकती थी.....पर माफ़ कीजिये मुझे आखिर पसंद नहीं आया.........

    ReplyDelete
  5. बहुत ही उम्दा .
    कविता में की बोर्ड .
    वाह !
    कभी कभी सेव करना भी ठीक है.
    बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  6. क्या खूब लिखा है वन्दना……………कुछ बातें डिलीट करनी पडती हैं शायद वो उतनी गहनता से शब्दो मे नही समा पातीं।

    ReplyDelete
  7. डिलीट ना किया तो सब, खुद पढना ही मुश्किल हो जाए :)
    कुशलता से पिरोया है मन के भावों को

    ReplyDelete
  8. की बोर्ड के शब्दों का बिम्ब और भावपूर्ण रचना ...? बहुत खूब

    ReplyDelete
  9. oho!!!....nice one dear :)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...