Wednesday, November 2, 2011

त्रिवेणी




खुद ही राह दिखाती है , खुद ही भटकाती है 
जिंदगी तू जिंदगी भर कैसा खेल रचाती है 

एसा भी होता है क्या एक तरफ रास्ता एक तरफ मंजिल? 


- वंदना 

6 comments:

  1. होता है क्या ऐसा ?

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. जबरदस्त त्रिवेणी ... क्या बात है ...

    ReplyDelete
  4. अगर पहले जैसी बात होती तो मैं ये तस्वीर चुरा कर यहाँ से किसी को मेल कर देता..लेकिन फ़िलहाल इसे चुरा कर अपने पास ही रख लेता हूँ :)

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...