Sunday, October 16, 2011

त्रिवेणी



किसी के   दर्द में शामिल ...बस दुआ तुम्हारी हो 
किसी की मुस्कुराहटो में मुस्कुराती खुशी तुम्हारी हो, 

न जमीं पे न आसमान में ,रिश्ते बनते हैं दिल के जहान में !!



वंदना 

11 comments:

  1. शुक्रिया ..:)

    ReplyDelete
  2. जरूरी कार्यो के कारण करीब 15 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच की जी रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर त्रिवेणी

    ReplyDelete

तुम्हे जिस सच का दावा है  वो झूठा सच भी आधा है  तुम ये मान क्यूँ नहीं लेती  जो अनगढ़ी सी तहरीरें हैं  कोरे मन पर महज़ लकीर...