Sunday, October 2, 2011

दोहे जैसा कुछ




सांच कहे एक आईना. बात पते कि मान
मूरत देख के सीरत का करिए न अभिमान !

***

नेकी उतनी कीजिये जितनी घट समाय
मान घटे जिस और उस पंथ कभी न जाय !

***






वंदना


5 comments:

  1. आपकी कवितायें वैगरह मैं अक्सर फीड से पढता हूँ..सबसे अच्छी बात मुझे जो लगती है वो ये की कवितायें तो खूबसूरत होती ही हैं, आप तस्वीरें भी चुन के लगाती हैं,
    खूबसूरती और बढ़ जाती है कवितायों की!!

    ReplyDelete
  2. bahut bahut shukriyaa aap sabhi ka ,....aabhaari hoon .:)

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete

तुम्हे जिस सच का दावा है  वो झूठा सच भी आधा है  तुम ये मान क्यूँ नहीं लेती  जो अनगढ़ी सी तहरीरें हैं  कोरे मन पर महज़ लकीर...