Thursday, September 29, 2011

त्रिवेणी









एक बात को कहीं हमने कह कर खो दिया ,

एक ज़हन में रही और फ़साना बनती गयी !


चुप्पियाँ सिखाती हैं बातों का मोल रखना !















वंदना

6 comments:

  1. बहुत अच्छी पंक्तिया....

    ReplyDelete
  2. आपने बहुत दिन बाद मेरे ब्लॉग पर दर्शन दिये.
    आभारी हूँ.
    आपकी त्रिवेणी रचना सुन्दर लगी.

    ReplyDelete
  3. चुप्पियाँ हमेशा से ही बोल से अधिक प्रभावशाली होती है, एक खूबसूरत अहसास

    ReplyDelete
  4. गज़ब ... सच है चुप्पिया सिखायती हैं ... लाजवाब ...

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...