Sunday, September 26, 2010

काश !



काश ! के जिन्दगी से आगे
हम एक कदम बढ़ाये
खुद को खुद से ले चले कहीं दूर
जहाँ अहम् कि बेडिया
मासूम सी ख्वाहिशो को
कभी जकड ना पायें ..

ना स्वार्थी से सपने
इन लम्हों को छीन ना पायें..
हर पल में बीतती उम्र ठहर जाये
किसी मासूम से लम्हे कि ठंडी छाँव में !

जहाँ हवा में उछलती ख्वाइशे
हर बेबशी को ठोकर मारती हुई
आसमां के सीने पर लिख दे
अपनी उसूलों कि तहरीर..
जो सूरज कि तेज किरणों कि तरह
चुभती रहे इस जहां कि आँखों में बेसक
कोई बादल कितना बरसले कितना भी गरजले
न मिट सके कभी वो लिखा हुआ सब कुछ
बिल्कुल मेरी हथेलियों पर बनी
चंद लकीरों कि तरह
जिसे रोज पढ़े ये जहाँ !

दिल को बेफिजूल किसी से इल्तजा ना हो
जहाँ बेबुनियाद कोई एहसास
दिल कि जड़े ना कुरेद पाए
कोई टीस सीने से उठकर जब्त होती हुई
गले कि रगों में दम ना तोड़ती हो ...

जहाँ किसी कि चाह ना सांस ले
निर्जीव सी हृदय पटल पर
जहाँ खुद को खोने कि निराशा
गुनाह बनकर साथ ना चलती हो

काश !के जिन्दगी से आगे
हम एक कदम बढ़ाये
खुद को खुद से ले चले कहीं दूर...

-वंदना

14 comments:

  1. वाह..............बढ़िया प्रस्तुति जी

    ReplyDelete
  2. जहाँ हवा में उछलती ख्वाइशे
    हर बेबशी को ठोकर मारती हुई
    आसमां के सीने पर लिख दे
    अपनी उसूलों कि तहरीर..
    जो सूरज कि तेज किरणों कि तरह
    चुभती रहे इस जहां कि आँखों में बेसक

    दर्द को खूबसूरती से शब्द दिए हैं ..एक सकारात्मक सोच के साथ ..

    ReplyDelete
  3. आसमां के सीने पर लिख दे
    अपनी उसूलों कि तहरीर..
    बहुत खूब लिख तो रही हैं आप। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 28 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 28 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. काश! जैसा आकाश
    मासूम ख्वाइशे
    एक ख्वाइश ने पंख फैलाए के बदली आ गई

    ReplyDelete
  7. bahut hi khubsurat rachna...
    yun hi likhte rahein....

    ReplyDelete
  8. आसमां के सीने पर लिख दे
    अपनी उसूलों कि तहरीर..
    सार्थक और अर्थपूर्ण शब्द चयन. बेहतरीन भाव. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  9. काश ऐसा हो जाए ...
    अच्छी कविता ...

    टाइप में मैं भी बहुत गलतियाँ करती हूँ मगर यहाँ जिस पर मेरा ध्यान गया ...
    बेबस ..
    बेशक़ ...
    की..

    ReplyDelete
  10. काश !के जिन्दगी से आगे
    हम एक कदम बढ़ाये
    खुद को खुद से ले चले कहीं दूर...

    काश !....bahut hi sundar abhivyakti .

    ReplyDelete
  11. बहुत उम्दा!!

    ReplyDelete
  12. ================================
    मेरे ब्लॉग पर इस बार थोडा सा बरगद..
    इसकी छाँव में आप भी पधारें....

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब तराने लिखती हैं आप .......... खुदा आपकी कलम को तरकियां बक्शे .!
    मैं तो पहली बार में आपका मुरीद हो चला हूँ...

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...