Monday, August 16, 2010

सूरज.




आज सांझ सूरज...
कुछ अलसाया हुआ सा,
शफक पर
ठहरा रहा कुछ देर ..
जैसे .. रात का अभी
कुछ श्रंगार बाकी था !!


13 comments:

  1. पूरब से उगता है जो, और पश्चिम में छिप जाता है!
    वह प्रकाश का पुंज, हमारा सूरज कहलाता है!

    ReplyDelete
  2. वन्दना जी .
    रचना संवेदनाओं की सरस अभिव्यक्ति है ।
    प्रशंसनीय ।

    ReplyDelete
  3. बेहद प्रभावी रचना !!

    हमज़बान यानी समय के सच का साझीदार
    पर ज़रूर पढ़ें:
    काशी दिखाई दे कभी काबा दिखाई दे
    http://hamzabaan.blogspot.com/2010/08/blog-post_16.html

    ReplyDelete
  4. bahut hi umdaah rachna....

    ReplyDelete
  5. अलसाया सूरज ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. vaah.............behad khoob bhaav bhara hai.

    ReplyDelete
  7. raat ka sringaar usko jaldi dhalne pe majboor nahi kar dega kyaa??..not being able to exactly gather the meaning of the line...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. @ all ...bahut bahut shukriyaa aap sabhi ka yahan tak aane or sarahne ke liye ..aate rahiyega ....thnks:)

    ReplyDelete
  10. @ sajal ji ....sooraj tab jayega shafak se jab raat aayegi ..or raat bina poora srangaar kiye nahi aa rahi ..kuch der or thahar kar raat ki raah tak rha tha :D:D:D

    ReplyDelete
  11. बाकमाल लिखा है आपने ........ इसी तरह आपकी सोच को परवाज़ मिलता रहे.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...