Saturday, April 24, 2010




" वो परिंदा मेरी मुंडेर से बड़ी हैरत में उड़ा,

कहीं दूर चलूँ यहाँ पिंजर ए दस्तूर बहुत हैं ....

ऐ मोला ,मैं बसर करता रहूँ पंछी बनके हर जनम ,

इंसानों कि बस्ती में तो हर कोई मजबूर बहुत हैं ...."

11 comments:

  1. चल उड़जा रे पंछी ..यहाँ तेरा ठिकाना नहीं

    ReplyDelete
  2. इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

    ReplyDelete
  3. Insaano ki basti mein har koi majboor bahut hain ......majbooriyan apni jagah hain aur dooriyan apni jagah :-)

    ReplyDelete
  4. bahut khub kaha aapne....
    इंसानों कि बस्ती में तो हर कोई मजबूर बहुत हैं ....
    waah...
    regards
    http://i555.blogspot.com/
    idhar ka v rukh karein..
    nayi rachna..
    intzaar,,,,

    ReplyDelete
  5. thanks a lott averyone :)

    ReplyDelete
  6. @ priya ..majbooriya apni jagah hai or dooriya apni jagah?? jara detail me batao :)
    and thanks a lott for coming :)

    ReplyDelete
  7. क्या बात...!

    ReplyDelete
  8. -------------------------------------
    mere blog par is baar
    तुम कहाँ हो ? ? ?
    jaroor aayein...
    tippani ka intzaar rahega...
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. vandna, your writings are like a miracle, congrachulations for good NaZms.

    ReplyDelete
  10. इंसानों कि बस्ती में तो हर कोई मजबूर बहुत हैं ...."
    sundar chitramayee prasuti...

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...