Saturday, May 2, 2009

खुसनसीब हूँ

संगत कवियों की मिल गयी मुझे..... .,
मानो झूठ की इस जागीर में सच्चाई के नजराने मिल गए
मेरी गुमनाम राहों को सफ़र सुहाने मिल गए
खुद को कवि कहूं ,इतनी तो ओकात नहीं मेरी
बस खुद से बतियाने के मुझे अब बहाने मिल गए ....

1 comment:

  1. बस खुद से बतियाने के मुझे अब बहाने मिल गए
    wah wah! ye bahane bahut khoobsurat hain... batiyati raho..... aur uhi muskurati raho :-)

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...