Saturday, May 2, 2009

तमन्नाए जो मेरी है ,सभी रंगीन फवारे है
गुमनाम अँधेरी राहो में बस खुआबो के उजारे है
हकीकत के आईने में मगर बड़े कड़वे नज़ारे है
ख़ुद की गुमराहियों से फ़िर भी कोई गिला नही मुझे
प्यासे तो रह जाते है वो भी, जो दरिया के किनारे है

1 comment:

  1. ख़ुद की गुमराहियों से फ़िर भी कोई गिला नही मुझे
    प्यासे तो रह जाते है वो भी, जो दरिया के किनारे है

    these lines are best.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...