Saturday, May 2, 2009

तमन्नाए जो मेरी है ,सभी रंगीन फवारे है
गुमनाम अँधेरी राहो में बस खुआबो के उजारे है
हकीकत के आईने में मगर बड़े कड़वे नज़ारे है
ख़ुद की गुमराहियों से फ़िर भी कोई गिला नही मुझे
प्यासे तो रह जाते है वो भी, जो दरिया के किनारे है

1 comment:

  1. ख़ुद की गुमराहियों से फ़िर भी कोई गिला नही मुझे
    प्यासे तो रह जाते है वो भी, जो दरिया के किनारे है

    these lines are best.

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...