Sunday, May 3, 2009

परिभाषा कवि की (ख़ुद के नजरिये से )

जब वैराग्य को पाया तो दुनिया छूटी ,
दुनिया छूटीं तो गुमनाम हुआ .
जो वैराग्य को छोडा -तो खुद से बिछडा
खुद से बिछडा तो विरह पाई ,
विरह मिली तो बदनाम हुआ *
न विरह छूटी , न वैराग्य गया
मैं दोनों का दास भया
मिट गयी मन की रसना सारी,
अब तो कवि मेरा नाम भया .......

2 comments:

  1. kaviyo ke upar likhi gayi is tarah ki kavitaayein bahut achhi lagti hai

    akhiri pankti mein kavi ki spelling galat ho gayi hai wo sudhar le

    ReplyDelete
  2. good one! aap likhti rahiye hum padhte rahengay

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...