Saturday, May 2, 2009

देश मेरा

अपँग बैलो की जोट में ..जोड़ दिया हल ..बिन हाली बिन फाला
खेत मेरे का कैसा नसीब, जब लंगडा जोतन वाला*

(ये एक पहेली है जिसका जवाब है "भारत" )
{ज्यादा उलझना न पड़े इसलिए सुलझाती हूँ ...अपँग बैल =राजनितिक दल
हल = सरकार
हाली, फाला(हल के पुर्जे )=अshixit नेता और अव्यवस्थित कानून
खेत = भारत
लंगडा जोतन वाला =उम्र के थके ,(जो अपना बोझ नहीं उठा सकते वो देश का कसे उठा पाएँगे )


(ये पंक्ति मैंने प्रवासी भारतीय होने की हैसियत से नही एक छोटे से भारतीय किसान परिवार की सदस्य होने के नाते कही है .....

क्योकि ....
छोटे शहर का वो बड़ा शोरगुल, वो सिटी बस के धक्के याद गए
वो हर चोराहे पर लगती पैठ ,वो जाम और चक्के याद आ गए
वो मेरठ विक्टोरिया पार्क में लगी आग, वो जलते पंडाल याद आगए
वो गुर्जरों दुआरा aarakchan के नाम् पर मचाये गए बवाल याद आगए
**किस मुँह से उन गैर मुल्क जालिमो (आंतकियों )को दोष दे दूं
जब अपनों के मचाये आतंक और आकाल याद आ गए
इससे पहले की मेरी कलम स्लम डॉग की तरह एक कड़वे उपहास तक जाती
मुझे शब्दों के संस्कार याद आ गए ......................

1 comment:

  1. ye kavit to man to choo gai.. near to reality.. bahut sunder presentation hain ......keep writing

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...