Saturday, October 11, 2014

मुझसे मेरी प्यास ना छीन



मुझसे मेरी प्यास ना छीन 
जीने का एहसास ना छीन

न हो शामिल सफर में लेकिन
 पंख न छीन परवाज़ ना  छीन

ये उजले अँधेरे हैं जीवन के
तारों की तू सौगात ना  छीन

झूठे - सच्चे ख़ाब दिखा पर 
मुझसे मेरी नींद ना छीन 

मुझको बख्श तू धूप घनेरी
पर मेरे ही  साये ना छीन

~ वंदना 

5 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 13/10/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (13-10-2014) को "स्वप्निल गणित" (चर्चा मंच:1765) (चर्चा मंच:1758) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर एहसास
    आभार

    ReplyDelete
  4. मुझको बख्श तू धूप घनेरी
    पर मेरे ही साये ना छीन
    बहुत सुन्दर भावों से रचाई है ये रचना....बधाई

    ReplyDelete
  5. वाह ... छोटे छोटे लाजवाब सादगी भरे शेर ...

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...