Wednesday, June 18, 2014

त्रिवेणी



मुमकिन है पानी पर पैरों को जमाना 

तपती रेत का एक रोज़ आईना हो जाना 

बस तुम खुद से बहुत दूर न निकल जाना !

वंदना 


5 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 19-06-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1648 में दिया गया है |
    आभार |

    ReplyDelete
  2. वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  3. वाह ... क्या बात कही है ... खुद सद दूर निकलना आसान कहाँ ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत अल्फ़ाज़...

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...