Sunday, November 4, 2012

त्रिवेणी




"इन बादलों के आगे आगे दौड़े ...
कभी छुपने में कोई कसर न छोड़े 

चाँद.. चलती फिरती निगाहों सा !


vandana 

2 comments:

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...