Monday, November 12, 2012

ग़ज़ल




चलो  जिंदगी को आसान  कर  लेते हैं 
खुद पर आज इक एहसान कर  लेते हैं 

एहसासों  को जुबाँ फिर  मिले न मिले 
एक बार ख़ामोशी को अज़ान कर लेते हैं 

मोहब्बत के  सजदे  तो महंगे बहुत  हैं 
समझोतों  को जीने का सामान कर लेते हैं 

इस पिंजर में एक परिंदा सर पटकता है 
दिल की जमीं पे एक आसमान कर लेते हैं 


देकर रिहाई इस दिल ए गुनहगार को 
इसी सजा को अपना  ईमान कर लेते हैं 

याद नही है तहरीर ए वजूद भी अब तो 
सोचते थे इश्क को  पहचान कर लेते हैं 


- वंदना 



6 comments:

  1. बेह्तरीन ...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना!
    --
    दीवाली का पर्व है, सबको बाँटों प्यार।
    आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर ..आप को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए...

    ReplyDelete
  4. वाह ! बहुत ही खूबसूरत । अजान कह के इबादत कर दिया मुहब्बत को !

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...