Saturday, October 13, 2012

ग़ज़ल


हमें कांश  कोई तुमसे भी प्यारा होता 
जो सिर्फ हमारा और हमारा    होता !

सपनो में भी आता  हकीकत कि तरह 
हमने नींदों में उसको जब पुकारा होता !

न कोई चाँद न जुगनू  कुछ भी न सही ..
महज़ आँखों में  चमकता  एक तारा होता !

झुठलाये हैं सच अपने हिस्से के हमने.. 
किसी पल को  झूठ का भी सहारा होता !

जो गुजरी है वो चेहरे पे कब आ सकी है 
कांश किसी पल ये हौंसला भी हारा होता !

कट गया वक्त जिस अज़ाब के साथ 
न होता अगर ये तो  कैसे गुजारा होता !

समेटीं है ज़द में ये बहती हुई नदियाँ..
क्या करता समन्दर जो न खारा होता !


' वंदना '


5 comments:

  1. बहुत सुन्दर ||
    बधाईयाँ ||

    ReplyDelete
  2. बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है वंदना जी बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर गज़ल...
    बढ़िया शेर कहे हैं....

    अनु

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर गजल...बधाई..

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...