Thursday, September 20, 2012

त्रिवेणी


मानो बादल हँसे  हैं और पुरवाई रोई है 
सावन कि फुहारों ने चांदनी भिगोई है 

जैसे बेटी कि विदाई पर शहनाई रोई है 

- वंदना






2 comments:

  1. वाह बहुत खुबसूरत..

    ReplyDelete
  2. वाह...
    बहुत बहुत सुन्दर...

    अनु

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...