Saturday, June 16, 2012

त्रिवेणी



तीरगी में घिरकर ही  ये जादूगरी देखी 
हर ठोकर के सजदे में ये आवारगी देखी 


जुगनुओ की रौशनी भी किसी काम आती है !


- वंदना 

2 comments:

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...