Friday, May 18, 2012

ग़ज़ल


न दर्द न गिला  न चुभन कोई 
घुट के रह गयी है घुटन कोई !

शिद्दत से मुस्कुराईं हैं नम आँखें 
है जरूर राज़ इनमे  दफ़न कोई 

खुद को खुद में न तुम कैद रक्खो 
जला  दे न तुमको जलन  कोई 

बनते उधड़ते ख्यालों के कसीदे.. 
ज्यों मची हो जहन में रुदन कोई 

खिड़कियों से तेरी आदतन गुफ्तगू 
क्या सुनती है तुझको पवन  कोई ?

अपने गम से ना तुम हार जाना 
देखो, पड़ने न पाए शिकन कोई 

जिधर से आता है घर में अँधेरा 
आती है वहीं से ही  किरन कोई !

- वंदना 




13 comments:

  1. शिद्दत से मुस्कुराईं नम आँखें
    है जरूर राज़ इनमे दफ़न कोई ... वाह

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया |
    बधाई स्वीकारें ||

    ReplyDelete
  3. बहुत बढि़या प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  5. ब्ऴुत खुबसूरत गजल.........

    ReplyDelete
  6. behtareen gazal vandana ji

    ReplyDelete
  7. वंदना जी, बहुत ही बढ़िया गजल... आनंद आ गया... जय हो.

    ReplyDelete
  8. अँधेरे के डर से ना खिड़कियाँ बंद हो , रोशनी भी तो वही से आती है !
    खूबसूरत ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  9. andhera aur prakash.. dono ka rashta ek:)
    behtareen!

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...बधाई...

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...बधाई...

    ReplyDelete
  12. Super like hai Vandu....Too good.... :)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...