Monday, May 14, 2012

त्रिवेणी



घर कि उदासियाँ मुझसे बतियाती रहती हैं 
सुबह शाम तुम्हारी याद दिलाती रहतीं हैं..

तुम बिन बहुत अकेली हूँ माँ जल्दी से वापस आ जाओ !








वंदना 

8 comments:

  1. वाह: दो पंक्तियों मे सारे जहाँ का प्यार....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर.......................

    अनु

    ReplyDelete
  3. माँ की याद .... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. Now, that was too cute.... :)
    Bahut hi badhiya triveni Vandu... :)

    ReplyDelete
  5. Bahut khoob ... Maa ki prateeksha to sab ki hai ... Lajawab triveni

    ReplyDelete
  6. triveni likhna bahut jatil kaam hai.......
    Gulzar sahib ke baad mujhe aapki triveni achi lagi.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...