Saturday, May 5, 2012

त्रिवेणी



कितने रंग संजों डाले महज़ इक ख़्वाब कि ताबीर में 
जाने क्या क्या गढ़ बैठी , मैं पागल एक तस्वीर में 


कच्चे पक्के इन रंगों का ही खेल जिन्दगी है शायद !




वंदना 





9 comments:

  1. यह रंगों का ही खेल है ॥ सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. rango ka khel...sundar bhaav...

    ReplyDelete
  3. गहरी अभिव्यक्ति गहरी सोच

    ReplyDelete
  4. क्या खूभ चितेरा है ऊपर वाला और क्या खूब रंग भरे हैं उसमें जिंदगी ने!
    आपकी भी कामना कुछ वैसी सी! सुंदर अभिवयक्‍ति!

    ReplyDelete
  5. इन रंगों से ही तो नए रंग भी बनते हैं नए ख़्वाबों की तरह ...
    बहुत खूब लिखा है ...

    ReplyDelete
  6. सही कहा आपने

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत खूब।

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...