Saturday, January 21, 2012

मैं गरीब कि भूख हूँ




मैं गरीब कि भूख  हूँ 
और ....ये रोटी 
एक जलता हुआ सूर्य !

सिकता रहा हूँ आजतक 
सिर्फ इसकी तपिश भर से 

गरीबी के भूगोल में 
अपने पेट कि सीमित सी 
जरूरतों कि परिधि पर 
यूँ ही घूमता रहा हूँ 
बिना थके ..बिना रुके !

और झूझता रहा हूँ 
अपने इस सूर्य से 
समर्पित है इसे ही 
मेरी यातनाएं ,वासनाएं 
सब कुछ !

जीने का उद्देश्य हो 
या चलने कि ताकत 
मेरी लिए दोनों कि 
परिभाषा सिर्फ रोटी हैं !


भूख से जीतने कि कोशिश में 
जब भी करीब पहुँच पाया हूँ इसके 
झुलस गया हूँ ,हाथ जल गए हैं 
छिल जाती है रूह ..
निचोड़ लेती हैं इसकी तपिश 
मेरे भाग्य कि रेखाओं के पसीने को ..

जाने कैसे लोग हैं वो 
जिनकी मुट्ठी में कैद रहता है 
मेरी यातनाओं यह संघर्ष !

" आश्चर्य होता है मुझे इस दुनिया 
और दुनिया के बनाने वाले पर 
और सच कहूँ तो खुद पर
इतराता भी बहुत हूँ 

जब इसी सूर्य को किसी 
कचरे के डब्बे में पड़ा देखता हूँ " 


- वंदना 


10 comments:

  1. bas mahsus karne laayak kavita hai ye!!

    ReplyDelete
  2. mujhse galti se ek spam comment delete ho gyi hai ..main maafi chahti hoon ....

    shukriyaa aap sabhi ka yahan tak aane ke liye :)

    ReplyDelete
  3. भावमय कविता। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  4. कल 23/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. भूख को जीना आसान नहीं है आज के दौर में ...

    ReplyDelete
  6. गहन भाव,सशक्त अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर बिम्ब प्रयोग और सार्थक चिंतन...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  8. न जाने कितने सूर्य तेजहीन हो गए .. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती पर उनको शत शत नमन!

    ReplyDelete
  10. गरीबी का द्वंद व्यक्त करती सुंदर व सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...