Tuesday, October 11, 2011

ग़ज़ल




दिल कि बेखुदी को किसका ख्याल आया 
खिड़की के चाँद में    ये कौन मुस्कुराया..

बे  मांगे मुरादों को   पनाह मिल गयी 
टूटते तारे ने  जब , दुआ में सर उठाया 

कतरा कतरा टूटती बारिशों  कि तरह 
लम्हों कि आरजू ने मुझको आजमाया 

चाँदनी में रास्ता   वो जुगनू भटक गया 
और जलते चिराग ने,अँधेरा गले लगाया

मौजो कि रवानी को किनारा कौन देता 
कागज़ कि नाव को जैसे पानी में बहाया !

- वंदना


4 comments:

  1. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  2. लाजवाब रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  3. बे मांगें मुरादों को पनाह मिल गयी
    टूटते तारे ने जब दुआ में सर उठाया...

    वाह! सुन्दर गज़ल...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...