Thursday, September 8, 2011

त्रिवेणी




बेबाकियों ने जिंदगी से एक दिन यूं ही पूछ लिया 
किसी की ख़ुशी क्यूं अपनी है .किसी के गम क्यूं अपने है 

जिंदगी बोली अब ये मत पूछना इन पर हक़ अपने क्यूं नहीं !


वंदना 

2 comments:

  1. बहुत गहन अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  2. गहन अनुभूति लिए सुन्दर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...