Tuesday, August 30, 2011

"जिन्दगी"




एक नज्म
 रह गयी है मेरी 
तुम्हारे पास  
 गलती से ..

जिसका नाम अनजाने में 
"जिन्दगी" 
रख दिया था मैंने 

मायने मालूम नहीं थे  ना  
इसलिए छूट गयी 
शायद तुम्हारे पास !

मायने समझ आएँ हैं तो 
अक्ल भी आ गयी है 
अब नहीं दोहराउंगी 
जीवन कि उन तहरीरों को 

और अगर लिखूंगी भी 
तो किसी को सौंपने कि 
भूल तो हरगिज़ नहीं करूंगी 


क्योकि गलतियां 
दोहराने पर जिन्दगी 
पछताने का  भी मौका नहीं देती 


- वंदना 


7 comments:

  1. नज़्म ..और ज़िंदगी ..खूबसूरत बिम्ब ..अच्छी मन को छू लेने वाली रचना

    ReplyDelete
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  4. सुन्दर नज़्म....
    सादर...

    ReplyDelete
  5. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 01-09 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ... दो पग तेरे , दो पग मेरे

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर नज्म ...सादर!!!

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...