Thursday, August 25, 2011

त्रिवेणी




एक अकेली चिड़िया को देखा सामने बगीचे में 

  कितनी मगन ,  कभी  इधर फुदकती  कभी उधर 


बड़ा प्यारा होता है किसी तसव्वुर के साथ खेलना   !!

7 comments:

  1. वाह्……………गज़ब कर दिया।

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. आप त्रिवेनियों का खुबसूरत संग्रह बना रही हैं...
    सादर बधाइयां...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  5. वाह।
    बहुत शानदार रही यह त्रिवेणी।

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...