Tuesday, August 2, 2011

ऐ मन भला क्यूं तेरी खातिर ये जीवन उलटी चाल चले ?




(इस कविता का भाव यही है के ...जीवन किसी के लिए अपनी दिशा नही बदलता ..जो जैसा है वैसा ही है और रहेगा..हमारे मन कि अज्ञानता इसे समझे या न समझे  !) 


क्यूं पश्चिम से दिन निकले ?
और क्यूं पूरब में सांझ ढले ?
ऐ मन भला क्यूं तेरी  खातिर 
ये   जीवन  उलटी चाल चले ?
- - - - - - - - - - - - - - - 
क्यूं नींदों में सूरज घर कर जाए ?
क्यूं    विरह में   न    रात जले ,
ये  अम्बर आखिर क्यूं झुक जाए 
क्यूं  चंदा का      वनवास  टले ?

ऐ मन भला क्यूं तेरी  खातिर 
ये   जीवन   उलटी चाल चले ?
- - - - - - - - - - - - - - 
बनते पतझड़ के   वो साक्षी
जिनसे कल  के मधुमास थे 
वही तरुण     अब नही रहेंगे 
जिनसे  बहारों के उल्लास थे 

बागवां   कि पीड़ा पर क्यूं 
पुष्पों  कि मुस्कान खिले ?

ऐ मन भला क्यूं तेरी खातिर 
ये जीवन  उलटी चाल चले ?
- - - - - - - - - - - - - -
राम  अहिल्या   करते  देखे 
एक  पत्थर के   तासीर को !
रघुकुल    रीत   नहीं दे पायी 
न्याय  सिया   कि पीर को !

मन कि  कंचित  कुंठाओं में 
क्यूं समर्पण कि ये रीत पले ?

ऐ मन भला क्यूं तेरी खातिर 
ये जीवन  उलटी चाल चले ?
- - - - - - - - - - - - - - 
ये सावन भला क्यूं पढ़ा करे 
प्यासे मरुथल कि तहरीर को 
क्यूं  गंगा सा  सत्कार मिले 
यहाँ   हर नदिया   के नीर को  

टूटी हुई   किसी   वीणा से ,
क्यूं सरगम कि तान मिले ! 

ऐ मन भला क्यूं तेरी खातिर 
ये जीवन उलटी चाल चले !
- - - - - - - - - - - - - - -
क्यूं पश्चिम से दिन निकले ?
और क्यूं पूरब में सांझ ढले ?
ऐ मन भला क्यूं तेरी  खातिर 
ये  जीवन   उलटी चाल चले ?

-- वंदना 

9 comments:

  1. आज 03- 08 - 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति सुन्दर भाव.....

    ReplyDelete
  3. बेहद गहन और सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  4. कविता जी सकारात्मकता का संदेश देती आपकी ये कविता पसंद आयी धन्यवाद......!

    ReplyDelete
  5. बहुत गभीर विषय को अपने भुत सहजता से वयक्त किया है...

    ReplyDelete
  6. bahut hi sundar
    vah keya bath hai

    ReplyDelete
  7. Naye tewar naya andaaz .... first time is tarah ki kavita padhi tumhaari...really very ture aur jo usage kiya hai words ka under rhythm I luv this

    ReplyDelete
  8. 'रघुकुल रीति नहीं दे पायी
    न्याय सिया की पीर को '
    ...............हृदयस्पर्शी प्रस्तुति

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...