Friday, August 5, 2011

पूछो जंगल के मोर से !


क्यूं घिर आए बादल काले 
आज ये चारों से ..
किसने दी आवाज इन्हें 
पूछो जंगल के मोर से !

प्यासे तरुण किसे पुकारे 
कोयल काली क्या गाए
क्यूं झूम उठा अम्बर सारा 
क्यूं बहकी हैं आज फिजाएं..

इन आँखों कि प्यास बंधे 
कैसे काज़ल कि ड़ोर से !

क्यूं घिर आए  बादल काले 
आज ये  चारों और से ..
किसने दी आवाज़ इन्हें 
पूछो जंगल के मोर से  !


सूने तट ये किसे पुकारे..
बहती नदियाँ क्यूं बलखाये, 
कैसी   है ये   तान हवा में 
धुन बंसी कि कौन बजाये.. 

बाँध गया ये मन वैरागी 
किसे पलकों कि कोर से !


क्यूं घिर आए बादल काले 
आज ये  चारों और से..
किसने दी आवाज़ इन्हें 
पूछो जंगल के मोर से ! 



पर्वत बैठा सोच   रहा है 
क्यूं धरती  इतना इतराए..  
मोजों कि ये अजब रवानी 
लहर लहर सागर लहराए..


कोई बचा ले साहिल को 
इन लहरों के इस शोर से ! 

क्यूं घिर आए बादल काले 
आज ये  चारों और से ,
किसने दी आवाज़ इन्हें 
पूछो जंगल के मोर से !


बूंदों से तन मन ये भीगा 
गलियों से बरसात चली 
ह्रदय के सूने पनघट पर 
होले होले सांझ ढली 

कान्हा मेरे तुझे पुकारूं
और मैं कितनी जोर से !


क्यूं घिर आए बादल काले 
आज ये  चारों और से..
किसने दी आवाज़ इन्हें 
पूछो जंगल के मोर से !!


- वंदना
8/5/2010




10 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत भाव लिए हुए बहुत सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  3. मौसम के अनुकूल सुन्दर गीत पढ़कर अच्छा लगा!

    ReplyDelete
  4. khubsurat rachana sarahniya hai .. badhayi ji /

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर गेय रचना बन पडी है वन्दना जी ! गुनगुनाते-गुनगुनाते ये पंक्तियाँ और जुड़ गयीं, समर्पित हैं आपको ही -

    यादें उमड़ीं घुमड़े बादल
    बरसीं अखियाँ जोर से
    रात कटी है कैसी मेरी
    पूछे कोई भोर से .

    ReplyDelete
  6. ghunghru..kanha..mor..bhawmay karti rachna

    ReplyDelete
  7. आप सभी का बहुत बहुत आभार :)


    @ कौशलेन्द्र जी ......बहुत खूब :) शुकिया रचना से जुड़ने के लिए ..:)

    ReplyDelete
  8. सावन को और खुबसूरत दर्शाता आपका गीत... बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  9. वाह …………अब तो कान्हा को आना ही पडेगा।

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...