Tuesday, July 26, 2011

Kavi sammelan in Washington DC



वंदना सिंह

7 comments:

तुम्हे जिस सच का दावा है  वो झूठा सच भी आधा है  तुम ये मान क्यूँ नहीं लेती  जो अनगढ़ी सी तहरीरें हैं  कोरे मन पर महज़ लकीर...