Saturday, March 26, 2011

टीस







कैसी शिकायत ,
कैसी नाराज़गी 
कौन से  गिले ..
कहाँ के शिकवे ..

काश हमने कुछ कहा होता 
काश  तुमने कुछ सुना होता 

हर टीस मुनासिब* होती..
हर दर्द लाज़मी होता !


[मुनासिब = उचित ]



10 comments:

  1. बहुत खूब ...

    कांश को काश कर लें ..

    ReplyDelete
  2. बहुत सच कहा है...

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (28-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर ...आपका आभार इस सार्थक प्रस्तुति के लिए

    ReplyDelete
  5. wahhh!!!! bohot khoob

    ReplyDelete
  6. यही टीस है जो मन को मथ जाती है !
    ना तो हमने ही कहा कुछ ना तो तुमने ही सुना
    हज़ारों फ़साने ज़माने में फिर भी
    ना जाने कहाँ से बयां हो गये !

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब.
    सलाम.

    ReplyDelete
  8. bahut khoob..

    har tees laajmi hoti hai, BASHARTE wo dil ki gahraai me gote kha kha kar doob jaye...

    ReplyDelete
  9. chhoti lekin khoobsoorat rachna.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...