Thursday, February 17, 2011

नज्म



तुम्हारे हिस्से कि 
सब बाते ..कब की 
मौन हो गयी हैं यूँ  तो .
.फिर भी देखा है मैंने 
अपनी तहरीरो में 
शब्दों को छटपटाते हुए 

आखिर क्यूं ????
क्यूं जिंदगी का ये इल्जाम 
मैं कबूल कर लूं 
क्यूं मान लूं दिल का वो झूठ 
जो वहम हो सकता है 
मगर सत्य कभी नहीं था !

क्यूं मान लूं मैं 
इन एहसासों का 
ये कड़वा सच 
क्या सोचकर पी लूं  ये जहर 
जो मेरी रगों में उतर चुका है 

जब तुम नहीं थे 
जिंदगी में कहीं भी 
तब भी था कोई 
उस चाँद में 
उस जुगनूं में 
इन हवाओं में 
इन फिजाओं  में 
मेरे सपनो में 
मेरे पागलपन में 
मेरी नज्मो में 
मेरे गीतों में 
मेरी बातों में 
मेरे वैराग्य  में 
मेरे अपने ही हाथो से 
बनायीं हुई 
एक काल्पनिक 
तस्वीर कि तरह !

हाँ कुछ तो बदला था 
तुमसे मिलकर ...
गुजरते पलों कि खनक 
लम्हों में घुली 
इन्तजार कि चासनी  
महसूस तो कि थी 
एक छटपटाहट
इन हवाओ में 
इन नन्ही बूंदों में ..

बदल रहा था 
मेरा पागलपन ..एक 
अजीब सी तड़प में ...
बदल रहा था वो वैराग्य 
एक विरह में  !
बदल रही थी. ..
मेरी बातो में वो खामोशी 
जिसकी गूँज किसी 
पागलखाने कि उस खाली 
कमरे कि तरह थी 
जिसमे किसी को 
कैद किया गया हो 
खुद कि चीखें सुनने के लिए ..

बदला था बहुत कुछ 
मगर किस बात के लिए 
मेरे हाथो में अभी भी 
वही कैन्वस तो था 
जिसपर मैं कल्पनाओं 
के चित्र गढ़ती थी 
किरदार बनाती थी ..

उतारना चाहती थी
शायद एक सच्ची तस्वीर  को 
अपने काल्पनिक और 
झूठे रंगों से 
सिर्फ उस कैन्वस पर ..

मगर उम्मीदों में कभी नहीं, 
न ही सपनो में...
मैंने भूलकर भी कोई 
सच्ची तस्वीर नहीं गढ़ी ..

कैसे स्वीकार कर लूं 
वो कोई भी खता 
जो कि नहीं 

मगर पल पल कि 
ये मुकम्मल सजाएं 
क्यूं कहती हैं 
गुनहगार मुझे ?

नहीं देखना चाहती 
अपनी तहरीरो में 
एक असत्य को 
अपना अस्तित्व 
कायम करते !!





"ये नजरिये का झूठ ...ये दिल के वहम ..
मुझे नहीं मालूम मोहब्बत किसको कहते हैं

मगर खुद्खुशी शायद इसी को कहते हैं !!



"वन्दना "


13 comments:

  1. आदरणीय वंदना जी..
    नमस्कार
    कोमल अहसासों से परिपूर्ण एक बहुत ही भावभीनी रचना जो मन को गहराई तक छू गयी ! बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण प्रस्तुति ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  2. भावों का सुन्दर समन्वय्।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर एहसासों से भरी रचना...

    ReplyDelete
  4. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  5. ye last para me aapne sahi kaha h...... khudkushi shayad isi ko kahte hai...... haan sayad kahte h.

    ReplyDelete
  6. प्रेम के सुंदर एहसास ,अच्छी रचना

    ReplyDelete
  7. नज़्म का चतुर्थ परिच्छेद में गज़ब का तूफ़ान सिमट आया है.

    ReplyDelete
  8. bohot bohot bohot khoobsurat nazm.....i think aapko aur nazmein likhni chahiyein, its amazing

    ReplyDelete
  9. अपनी ही झलक दिखाई दी इसमें, खुद को यूँ देखना अच्छा लगा...बढ़िया

    ReplyDelete
  10. saari baat last ki triveni keh gayi...no words for it...keep reaching hearts :)

    ReplyDelete
  11. bahut der se aapke blog par aapki nazmo ko padh raha hoon , pahli baar aaya honn , bahut accha laga .. man me utrati hui ye nazm , bahut kuch kahti hui ....

    salaam

    -----------
    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .
    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.
    """" इस कविता का लिंक है ::::
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html
    विजय

    ReplyDelete
  12. बहुत ही रूमानी अंदाज़ है आपका वंदना जी!
    आप लिखती रहे हम पढ़ते रहें
    दिली ख्वाहिश है ये सिलसिले यूँ ही चलते रहें....

    ReplyDelete
  13. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...