Tuesday, February 22, 2011

मौसम !

ये रंग बदलता मौसम 
जब शाख़  के सब पत्ते 
पड़ गए पीले! 
सीने में तूफ़ान लिए  
 गुजर गयी हवा 
झोकों का हाथ थामे 
तमाम जंगल के सर से..
सब पात ज़मीन की  
धूल चाटने को मजबूर !


बस एक और आंधी 
बस एक और बारिश 
इन सूखे पत्तों का 
अस्तित्व मिटाने के लिए 

ये उजड़े हुए पेड़ 
फिर एक नए बसंत की
 राह ताकते हुए ..
उस एक पीड़ित 
किसान की  तरह  
जिसने खो दी हो 
अपनी फसल
बिना कुछ पाए  ! 


इस आते जाते मौसम के
 चक्रव्यूह को  'जीवन'
और 
वक्त कि इस पलट- फेर को ही
 'नीति' कहते हैं शायद ! 

~ वंदना 

7 comments:

  1. जीवन इस परिवर्तन के चक्रव्यूह में सदैव फंसा रहता है..बहुत सटीक और सार्थक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  2. सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. bohot khoob.....bohot hi sahi aur sundar nazm...great job dear:)

    ReplyDelete
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. यथार्थ के धरातल पर लिखी सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. मौसम का बहुत महत्व है हम सबके जीवन में ...और मौसम हमेशा बदलते रहते हैं ! अच्छी रचना !

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...