Wednesday, February 9, 2011

अधूरी नज्मे ..





1.

हर एक मुराद दिल कि 
खुद से हारी हुई 

मालूम होती है ..

के  सजदे में हैं 
मगर 
मांगती कुछ नहीं !!


2.


आँखों के खामेजां 
कुछ ख़्वाब उदास थे 
....तमाम रात 
नींद सिराहने बैठी 
सिसकती रही !!


3.

अपनी दरबदरी का सबब मैं खुद ही तो हूँ 
मैंने उससे पनाह चाही जो खुद बे घर था !


4.




जिससे  जितना भी मिलो.. 
दिल खोल कर मिलना  ..
जिंदगी लम्बी सही मगर ..
रिश्तो कि उम्र बहुत छोटी है ! 


5.


गुमान कोई भी हो अच्छा नहीं होता ,
जिंदगी आईना सा दिखा देती है एक रोज़ ...



6.


इससे ज्यादा किसी मासूम को 
वक्त  भला क्या समझाए ?
जो टूटे हुए खिलौनों में 
बचपन रहा  हो ढूंढ  !..


7
.



वो गुनाह भी कबूल है ..ये सजा भी कबूल है
रो रो कर हार गये ..खुद से भागने में ,
जिंदगी अब तो तेरा हर एक इल्जाम कबूल है .

8.


इसके अपने  वसूल अपने  कायदे है
 हर एक वजूद को सलीके से तोलती  है 
सुनने कि आदत डालो वंदना  
.जिंदगी जब भी बौलती है खरा बोलती है 

17 comments:

  1. सुनने की आदत डालो वंदना
    ज़िन्दगी जब भी बोलती है खरा बोलती है...


    वाह...इस अनूठी रचना के लिए बधाई स्वीकारें....
    नीरज

    ReplyDelete
  2. 'अपनी दरबदरी का सबब मैं खुद ही तो हूँ
    मैंने उससे पनाह चाही जो खुद बेघर था '
    बहुत सुन्दर ......आठों नज्में खूबसूरत ढंग से खुद को बयां कर रही हैं

    ReplyDelete
  3. काफी कुछ सोचा है आपने, बचपन को टूटे खि‍लौने में ढूंढने सा।

    ReplyDelete
  4. ek se badh kar ek jane kitni baar parha

    ReplyDelete
  5. जिससे जितना भी मिलो..
    दिल खोल कर मिलना ..
    जिंदगी लम्बी सही मगर ..
    रिश्तो कि उम्र बहुत छोटी है !


    Bahut hi sunder.

    ReplyDelete
  6. अधूरी नज्में ही सही लेकिन पूरी कहानी कहती हैं.
    सभी खूबसूरत हैं.
    सभी एक चेहरा लिए हुए हैं.
    आप की कलम को ढेरों सलाम.

    ReplyDelete
  7. mera comment kahan gaya....!!!

    :(

    ReplyDelete
  8. @ All ..bahut bahut shukriyaa aap sabhi ka :)

    @ saanjh ....yaar mujhe nahi mila :( may be post karna bhool gyin hongi tum ..koi baat nahi tumne padha itna hi kaafi hai mere liye :)

    ReplyDelete
  9. वंदना जी,

    साडी अधूरी पूरी से भी बढ़िया बन पढ़ी है....आखिरी वाली तो सबसे बेहतरीन है......जिंदगी जब भी बोलती है.......बहुत खूब.......आपकी कलम को मेरा सलाम|

    ReplyDelete
  10. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  11. सुन्दर और भावपूर्ण कविताएं । बधाई।

    ReplyDelete
  12. chhoti chhoti bahut sundar rachnayen hain.

    ReplyDelete
  13. जिन्दगी जब भी बोलती है खरा बोलती है
    वाह वंदना जी , बहुत अच्छा लिखा ...लेखनी भी दिल से बोले तो खरा ही बोलती है ..

    ReplyDelete
  14. एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर .बधाई

    ReplyDelete
  16. waise to all are gud...but mine fav are 4,5,8 :)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...