Monday, October 18, 2010

बस यूँ ही तेरी ..हर एक बात महके



ये चाँद महके ये चांदनी रात महके
आसमां में तारों कि बरात महके

यादों ने छेड़ दिए तार धडकनों के
दिल के आज सारे जज्बात महके

न अल्फाज ,जिसकी न हैं जुबाँ कोई
मेरे जहन में वही प्यारी सी बात महके

मैं पल पल यूँ ही जीता मरता रहूँ
मेरी साँसों में सदा ये सौगात महके

दूर से ही मुझे दीदार ऐ चाँद होता रहे ,
सुकून की बस यू ही ये कायनात महके

मेरे अफसानों का हर लफ्ज गूंगा हो
बस यूँ ही तेरी ..हर एक बात महके

-वन्दना

10 comments:

  1. यादों ने छेड़ दिए तार धडकनों के
    दिल के आज सारे जज्बात महके

    खूबसूरत एहसास और भाव की रचना

    ReplyDelete
  2. मेरे अफसानों का हर लफ्ज गूंगा हो
    बस यूँ ही तेरी ..हर एक बात महके
    खुबसूरत शेर बधाई

    ReplyDelete
  3. .

    वंदना जी,

    प्यार का एहसास सिर्फ खुशनसीबों को होता है। बहुत सुन्दर रचना है आपकी। मेरी और मेरे जैसे बहुत से प्यार करने वालों की भावनाओं को शब्द देती हुई।

    " तेरे आने की जब खबर पहुंचे,
    तेरी खुशबू से सारा घर महके। "

    आभार।

    .

    ReplyDelete
  4. वाह कितना खुशनुमा परिवेश रचती कविता !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  6. Tere aane ki jab khabar mahke
    teri khusboo se sara ghar mehke

    ye waali gazal yaad aa gai.....na jane kyon hamse nahi likhi jaat gazlen.....shayad restriction pasand nahi :-)

    ReplyDelete
  7. आपकी कविताएँ दिल खुश कर देती हैं हर बार...

    ReplyDelete
  8. ग़ज़ल पढ़कर आनंद आ गया....बहुत अच्छा लिखती हैं आप

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रेम पगी रचना.

    ReplyDelete
  10. यादों ने छेड़ दिए तार धडकनों के
    दिल के आज सारे जज्बात महके

    अच्छी ग़ज़ल का पसंदीदा शेर.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...