Thursday, July 29, 2010




हाल ऐ दिल कभी मैंने ..तमाम ..नहीं लिखा
लिखा सब कुछ ,कुछ भी तेरे नाम नहीं लिखा

आँखों कि कौर क्या बताएगी इन आईनों का सच
भीगी पलकों का कभी मैंने इंतकाम नहीं लिखा

आँखें बंद करके तेरा सजदा जब चाहे कर लेती हूँ
इस सूरत ऐ खुदाई का चर्चा कभी सरेआम नहीं लिखा

एक जुस्तजू सर झुकाए भटकती है दरबदर
दिल कि मन्नतों का कभी कोई आयाम नहीं लिखा

ऐ जिन्दगी तेरे नतीजो से हार जाये वजूद मेरा
इतना कमजोर तो खुदा ने अपना अंजाम नहीं लिखा

13 comments:

  1. ऐ जिन्दगी तेरे नतीजो से हार जाये वजूद मेरा
    इतना कमजोर तो खुदा ने अपना अंजाम नहीं लिखा

    -बहुत खूब!

    ReplyDelete
  2. आँखें बंद करके तेरा सजदा जब चाहे कर लेती हूँ
    इस सूरत ऐ खुदाई का चर्चा कभी सरेआम नहीं लिखा

    so beautiful frindzzzzzz :) ... puri gazal bahut sunder hai... keep it up..

    ReplyDelete
  3. आँखें बंद करके तेरा सजदा जब चाहे कर लेती हूँ
    इस सूरत ऐ खुदाई का चर्चा कभी सरेआम नहीं लिखा

    bahut badhiya sher vandu ....


    aur "aawam " ka matlab hota hai ....janta...public...tumne kisi aur sense me use kiya hai shayd...

    ReplyDelete
  4. kya khub likha hai...
    waah
    आँखों कि कौर क्या बताएगी इन आईनों का सच
    भीगी पलकों का कभी मैंने इंतकाम नहीं लिखा ..
    behtareen...

    ReplyDelete
  5. @ all ..thanks a lot for coming ...rachna ko srahne ka bahut bahut shukriya :)

    ReplyDelete
  6. @swapnil .....thnks ...haan vo aayaam or avaam me fark samjhne me galti kardi thi ..abhi sahi kar liya ..thnks a lott :)

    ReplyDelete
  7. wow....superb....bauhat accha likha hai!

    ReplyDelete
  8. आँखों कि कौर क्या बताएगी इन आईनों का सच
    भीगी पलकों का कभी मैंने इंतकाम नहीं लिखा
    अच्छी ग़ज़ल, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  9. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं!

    ReplyDelete
  10. superb yaar.....kaun coach kar raha hai tumhe...ultimate sachchi

    ReplyDelete
  11. ऐ जिन्दगी तेरे नतीजो से हार जाये वजूद मेरा
    इतना कमजोर तो खुदा ने अपना अंजाम नहीं लिखा

    वाह....बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  12. आँखें बंद करके तेरा सजदा जब चाहे कर लेती हूँ
    इस सूरत ऐ खुदाई का चर्चा कभी सरेआम नहीं लिखा


    Woooooooooooooooooow....Har ek sher bahut hi accha likh ahai yaar. Par ye wala to bahut hi dhaansu hai. :)

    ReplyDelete
  13. Its really awesome..
    Sometimes if it is tried, feeling could be casted into words!!!
    Great.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...