Friday, June 4, 2010

मेरे दिल कि बेख्याली से..
नींद कि दुश्मनी पुरानी है ..
जब जब जागती पलकों पर
स्वप्न गढ़ता है ............नींद
वक्त से पहले चली आती है....

3 comments:

  1. wow...what a thought!

    ReplyDelete
  2. मेरे दिल कि बेख्याली से..
    नींद कि दुश्मनी पुरानी है


    mujhe ye line bahut pasand aayi vandna...

    ReplyDelete
  3. matlab neend nahi aati hai...sleeping pills mat lena.....consult to doctor :-)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...