Friday, April 16, 2010

कुछ छोटी नज्मे ..

1

शायद आसान था पर लगा मुश्किल ,
खुद को खुद में खोना...
वक्त सिखलाता है हर लम्हा
जिन्दगी को जिन्दगी होना...
अभिलाषाए देती है हर ठोकर से
आगे चलने का मशवरा ,
ख्वाइशे आसान है मगर
मुश्किल है किसी उम्मीद को खुद में बोना.




2


एहसासों कि रुई को

ख्यालो के चरखे में कातकर ...

पलकों के आसन पे

ख़्वाब कि रिदा बिछाई थी ,

नींद के अँधेरे में जाने

कोंन आकर चला गया ...

मैं दिन भर

नजर कि सिलवटो में

उसका अक्श ढूंढती रही .








3

आज एहसासों कि छटपटाती हुई नब्ज टटोली है ,

घायल से जज्बात से हर लब्ज समेटा है...

बेजुबां चीखो को नज्म ..और

साँसों कि लरज को वो साज कह रहे है,

हमने बिखरे हुए वजूद से अपना अक्स समेटा है ...






9 comments:

  1. pata hai vandana! jab ham khud ko express nahi kar paate to khamosh ho jaate hain.....tumahri nazm padh kar samaj nahi aap raha kya bole ...first one to ab kya kahen....doosron ko bolne doon.....God bless you!

    ReplyDelete
  2. wow !!!!



    bahut sundar rachna he


    shekhar kumawat

    kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. sach mein vandana ji...ab kya kahoon....
    priya ji ne kuch na kah kar bhi sab kuch kah diya.....
    bas usse aage sirf badhai dena chahoonga,.....
    mere blog par is baar..
    नयी दुनिया
    jaroor aayein....

    ReplyDelete
  4. the freedom of expression is with everyone but the power of expression is a gift of god....

    keep it up....

    ReplyDelete
  5. bahut bahut bahut shukriyaa aap sabhi ka yahan tak aane ke liye ...thunkuuu sooooo much :)

    ReplyDelete
  6. teeno achhi hain re vandu .....aur tumne fir se "jazbaaton " likh diya...agli bar likha to pitogi.... han doosri wali chutki nazm bahut jyada achhi hai ....aur bade dino bad tumhari wajah se ek lafz dhyan aaya jise main bhol chuka tha .. "rida" ... :) thanku

    ReplyDelete
  7. @ swapnil ..arre ye maine draft se copy paste mara tha to dhyaan nahi diya :( sorry :(

    nd thanku soo much for coming ...:)

    ReplyDelete
  8. arunesh ji ..bahut shuriya :)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...