Monday, July 16, 2012

कवी सम्मलेन - वाशिंगटन डी -सी

2 comments:

  1. वाह बहुत सुन्दर बधाई आप को

    ReplyDelete
  2. wow vandana...great to hear you...congratulations....keep shining :) :)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...