Friday, June 29, 2012

त्रिवेणी



ख़ामोशी कभी बन जाते हैं 
कभी सन्नाटों में चिल्लाते हैं 

अजीब हैं लफ़्ज़ों के रिश्ते !!


- वंदना 

11 comments:

  1. वाह: बहुत खूब कहा...ल़फ्जों के रिश्ते भी अजी़ब होते हैं..सुन्दर अभिव्यक्ति...वंदना जी..

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर......

    ReplyDelete
  4. क्या कहने
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर....
    :-)

    ReplyDelete
  6. सन्नाटों की ख़ामोशी.

    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  7. सुंदर त्रिवेणी

    ReplyDelete
  8. khubsurat triveni vandana ji

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...