Wednesday, June 20, 2012

त्रिवेणी




हर बार भरम रह जाता  है इबादत के इशारों में 

कितनी पलकें हार गयी कुछ ..ढूँढत ढूँढत तारों में 


खो गए कितनी दुआओं के सिक्के ए चाँद तेरे गलियारों में !


वंदना 

5 comments:

  1. बहुत उम्दा!
    शेअर करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  2. वाह: लाजवाब...वंदना जी..

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब...
    बहुत सुन्दर,,,,
    :-)

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...