Tuesday, May 29, 2012

त्रिवेणी





फूलों से कर ली यारी ... खुशबू चुनना सीख लिया 
 सपनो के आगे आगे,खुद के पीछे चलना सीख लिया ..

हर घुटन को देकर आज़ादी चलो एक नई परवाज़ लिखें ! 


वंदना 

7 comments:

  1. बहुत सुंदर!!!!

    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब...
    सादर

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति.........

    ReplyDelete
  4. वाह ...बेहतरीन ।

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...