Sunday, May 27, 2012

त्रिवेणी


मूँह के सामने कुछ और है पीठ पीछे कुछ और 

अपनी समझ से रहें दुखी, है मन में पाले चोर 


भगवान् मदद सबकी करवाना .पर ऐसे लोगो से बचाना !

- वंदना


3 comments:

  1. चंद पंक्तियाँ .... बहुत कुछ कह दिया

    ReplyDelete
  2. सही बात पीठ पीछे बोलनेवालो
    से भगवान बचाए ..

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया ।

    सादर

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...