Tuesday, October 25, 2011

सूना घर


 mera gaanv ..mera ghar ....! 




रौशनी भरा गाँव देखेगा , करुणा भरी नजरों से 
एक सूना घर अँधेरे में मूह छुपाता रह जायेगा 

अब इस अटारी पर... तू कभी नहीं आना 
वरना ऐ कबूतर ...तू प्यासा रह जायेगा !!





दिवाली कि आप सभी को बहुत बहुत शुभकामनायें...


- वंदना 


6 comments:

  1. चर्चा मंच परिवार की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    आइए आप भी हमारे साथ आज के चर्चा मंच पर दीपावली मनाइए!

    ReplyDelete
  2. .. आपको भी दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर लिखा है..दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ|....

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण!
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
  5. पावन पर्व सुखद अनुभूति ,आये जीवन में बार-२.....शुक्रिया जी /

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...