Sunday, August 14, 2011

त्रिवेणी



वक्त कि छोटी सी भूल कोई गुनाह बने 
 इससे पहले ही जिन्दगी ने कान खींच लिए 

माँ भी बचपन में ऐसा ही करती थी ना  !


- वंदना

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छी पंक्तिया...

    ReplyDelete
  3. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

    वाह...खूबसूरत रचना...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारी पंक्तियां....

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...