Thursday, August 11, 2011

ग़ज़ल



बात बात पे अब सब्र खोते नहीं है
रो चुके हैं बहुत  अब रोते नहीं है..
.
दिल   ये पागल है   तो हुआ करे
होश अपने हम अब खोते नही हैं..

बेबशी है कोई , जो  रहेगी  सदा 
जज्बात  बसमें कभी होते नहीं हैं ..

देखकर लहरें ..कह रहा है कोई
दिल को भी सलीके होते नहीं है ..

नींद आँखों की सो गयी कब से
ये ख़्वाब जाने क्यूं सोते नहीं हैं
..!


--वंदना

5 comments:

  1. बहुत ही खुबसूरत ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  2. बेबसी है कोई, जो रहेगी सदा
    जज्बात बस में कभी होते नहीं....

    वाह! सभी अशआर उम्दा...
    सादर...

    ReplyDelete
  3. वाह: बहुत खूबसुरत..गजल..बधाई..

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति है!
    रक्षाबन्धन के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...